20 Best Gulzar Shayari in hindi | Gulzar Shayari | गुलज़ार शायरी 2021

यहाँ हिंदी में गुलज़ार शायरी का सबसे अच्छा संग्रह है, Gulzar shayari with emotion, feeling, and love shayari.Gulzar or Gulzar Saab, is an Indian lyricist, poet, author, screenwriter, and film director.

Gulzar Shayari | Gulzar Quotes Images | गुलज़ार शायरी

क्या लूटेगा जमाना हमारी खुशियों🌹 को, हम तो खुद ही खुशियां दूसरों पर लुटा कर जीते हैं

Kya lutega jaman hmari khushiyo🌹 ko, ham to khud hi khushiya dusro se lut kr jite hai

Gulzar Shayari

दिल के रिश्ते‍‍‍ ✧

हमेशा किस्मत से ही बनते है✧

वरना मुलाकात तो रोज ✧

हजारोंसे होती है✧

Dil ke rishte‍‍‍ ✧

hamesha kismat se hee banate hai✧

varana mulaakaat to roj ✧

hajaaron se hotee hai✧


तुम ठहरो ¸आज वक्त को

जाने दो ✧।

Tum thaharo ¸aaj vakt ko

jaane do ✧.

कब्रे सारी खाली पड़ी रो रही है✧¸

हर इंसान अपने अंदर ही मर रहा है✧

Ҝabre sari Ҝhali Padi Ro Rahi Hai¸

Har Insan Apne andar hi ɱar raha hai.

मैं ठहर गया ✧ वह गुजर गई¸

वह गुजर गई ✧ सब ठहर गया

ɱain thagar gaya wo guzar gayi

Wo guzar gayi sab thahar gaya

फर्क था हम दोनों की मोहब्बत ने¸


मुझे उससे ही थी ✧ उसे मुझसे भी थी

FarҜ tha huɱ dono Ҝi ɱohhbat ɱain ¸

ɱujhe usse hi thi ¸use ɱujhse bi thi

जिन्हें अपने प्यार की कदर होती है✧¸

वह उनके लिए वक्त निकाल ही लेते है✧

jinhen apane pyaar kee kadar hotee hai✧¸ vah unake lie vakt nikaal hee lete hai✧

Gulzar Shayari

रिश्ते‍‍‍ धीरे-धीरे खत्म होते है✧¸

लेकिन पता अचानक से चलता है✧

Rishte dheere dheere Ҝhataɱ hote hain

LeҜin pata achanaҜ se chalta hai

कुछ ऐसे हो गए है✧

इस दौर के रिश्ते‍‍‍¸
आवाज तुम ना दो

तो बोलते वह भी नही

Ҝuch aise ho gaye hain is dour Ҝe rishte ¸

awaaz tuɱ na do to bolte wo bi nahi ..

आईना जब भी उठाया करो ✧

पहले देखा करो ✧ फिर दिखाया करो

Aaina jab bi uthaya Ҝaro

pahle deҜha Ҝaro fir diҜhaya Ҝaro

Gulzar Shayari

मैं भिखारी भी बन जाऊं🌹 तेरे खातिर कोई डाले तो सही तुझे मेरी झोली मे

Mai bhikhari bhi bn jau🌹 tere khatir

koi dale to tuje meri jholi me

 बड़ी ही प्यारी🌹 सी है वो गुस्सा भी करती है और बेहिसाब इश्क भी

Bdi hi pyari🌹 si hai vo gussa bhi krti hai or behisab ishk bhi

Gulzar Shayari on life

तुझ को बेहतर¸ बनाने की कोशिश में¸
मैं तुझको ही वक्त नही दे पा रहा हूं¸
माफ करना ए जिंदगी ✧
तुझको ही जी नही पा  रहा हूं ✧।

TujhҜo Behtar banane Ҝi Ҝoshish ɱein

ɱain TujhҜo Hi Waqt Nahin De Pa Rahe Huɱ¸

ɱaaf Ҝarna aye Zindagi

Tujh Ҝo hi ji Nahin Pa Rahe huɱ.

Raat bhar….famous Gulzar shayari

gulzar shayari

साथ साथ घूमते है✧ हम दोनों रात भर¸

लोग मुझे आवारा ✧ उसको चांद कहते है✧।

 Sath Sath ghuɱte Hain Haɱ donon raat bhar¸

log ɱujhe Awara aur usҜo Chand Ҝahate Hain.

Gulzar Shayari

नाराज हमेशा खुशियां ही होती है✧¸
गमों  के कभी इतने नखरे नही रहे।

Naraz Haɱesha Ҝhushiyan hi hoti hain¸

gaɱon Ҝe Ҝabhi itne NaҜhre Nahin Rahe.

बिखेर बैठा हूं ✧ कमरे में सब कुछ ✧

कहीं एक ख्वाब रखा था¸✧ वह भी ‍गुम है✧।

BiҜher Baitha hun Ҝaɱre ɱein Sab Ҝuch¸

Ҝahin EҜ Ҝhwab RaҜha tha wo bhi Guɱ Hai.

जो खानदानी रईस है✧
वह रखते है✧ मिजाज नरम अपना¸
तुम्हारा लहजा बता रहा है✧
तुम्हारी दौलत नई नई है✧।

Jo Ҝhandani Raees hai

wo raҜhte Hain ɱijaz narɱ Apna¸

Tuɱhara lehza bata raha hai

tuɱhari Daulat nai Nai Hai.

Gulzar Shayari

मैंने तो कहा था¸
कोई और नही है✧ मेरे दिल में¸
देख लिया तोड़ के ✧ कोई मिला क्या

ɱaine to Ҝaha Tha¸

Ҝoi Aur Nahin Hai ɱere Dil ɱein¸

deҜh liya Tod Ҝe Ҝoi ɱila Ҝya.

फूल देखे थे ✧ जनाजे पर अक्सर मैंने ✧

मगर कल शहर में ✧ फूलों का ही जनाजा ‍देखा✧।

Phool DeҜhe the Janaza per AҜsar ɱaine¸

ɱagar Ҝal Shahar ɱein Phoolon Ҝa hi Janaza DeҜha.

Gulzar Shayari

रिश्ते वही लाजवाब होते हैं जो अहसानो🌹 से नहीं बनते बल्कि एहसासों से बनते हैं 

Rishte vhi lajvab hone hai jo ahsano🌹 se nhi bnte ihsaso se bnte hai

Leave a Comment